कौन करेगा मदद दर दर भटक रही लापता बेटी की माँ

0

10 दिसम्बर 2018 से लापता बेटी की पुलिस अब तक नहीं लगा पाई सुराग।

फ़ोटो: लापता संतोषी की फाइल फ़ोटो।
फ़ोटो: लापता संतोषी की फाइल फ़ोटो।

सीवान: महाराजगंज थाना क्षेत्र के खेदुछपरा निवासी रंगीला साह का परिवार बेटी के लापता होने के गम में डुबा हुआ है वहीं गांव के दबंगों का खौफ से पुरा परिवार दहशत मे जी रहा हैं। रंगीला साह कि माने तो गरीब गुरबा का मदद करने वाला किधर है घुढ़ रहा हूँ,रंगीला साह कि पत्नी संतोषी कि माँ अपनी बेटी को ढुढने नेपाल तक गयी,मगर फोन करने वाले के चलाकी के आगे विवस देवी शनिवार दोपहर सीवान पुलिस कप्तान नवीन चन्द्र झाँ से मिलकर अपनी व्यथा सुनाई आश्वासन के बाद संतोषी की मां ने मीडिया के समक्ष रोते हुए अपनी बेटी की बरामदगी के लिए गुहार लगा रही है वही संतोषी की माँ महाराजगंज थाना पुलिस को निष्क्रिय बताते हुए कहा कि अभद्र शब्दों का प्रयोग कर मेरे साथ अन्याय किया गया बहुत दिन गिडगीडाने के बाद अनुमंडल पुलिस पदाधिकारी के कहने के बाद तो एफआईआर दर्ज हुआ,अब जिस नंबर से फोन आया था। उस नंबर को थाने में जाकर बताई थाना के लोग उसे पूछने गए कि नहीं गए आज तक कुछ बताने से इंकार कर रही है थाना पुलिस।

गौरतलब हो कि 10 दिसंबर 2018 को सुबह 10:00 बजे संतोषी एकाएक गायब हो गई परिवार वाले खोजबीन शुरू की, कहीं अता पता नहीं चला जब संतोषी की गुमशुदगी के आवेदन लेकर उसकी मां थाना पहुंची तो तकरीबन 2 माह बाद, डीएसपी महाराजगंज के कहने पर एफआईआर दर्ज हुआ। जब गुमशुदगी के आवेदन थाना लेने से आनाकानी करता है ऐसे में संतोषी की बरामदगी की कल्पना करना ही नामुमकिन है 10 दिसंबर से गायब लड़की की जब पता पुलिस नहीं कर पाई तो यह पुलिस की निष्क्रियता ही कही जा सकती है। मोबाइल नंबर 8709545385 से फोन आया की तुम्हारी बेटी मेरे पास है आवेदिक ने जब सूचना थाना को दिया और बकायदा नाम तक बताया लेकिन पुलिस उसको आज तक गिरफ्तार नहीं की यह भी एक पुलिस पर निष्क्रियता का प्रश्नचिन्ह है। लापता लड़की के पिता महाराजगंज बैंक में पियून का कार्य करते हैं वही संतोषी की मां परिवार को चलाने को ले लोगों के यहां घर का चौका बरतन काम करती है और जैसे-तैसे अपने परिवार को पालती है ऐसे परिवार के साथ पुलिस का शौतेला व्यवहार संदेह के घेरे में है।संतोषी कि माँ कि माने तो गाँव का ही दो लोग बार बार धमकी दे रहा है।धमकी देनेवालो ने इससे पहले भी मारपीट किया था। संतोषी मां ने कहा कि मोबाइल नंबर 8709545385 यह नंबर किसका है इसको कैसे मेरा नंबर पता चला और केस उठाने की बातें करता वगैरह तमाम प्रश्न है।फिलहाल संतोषी कि माता और पिता रंगीला साह बेटी कि बरामदगी और दोषियों को सजा के लिए भटक रहे है, संतोषी की मां और रंगीला साह जबसे पुलिस कप्तान नवीन चन्द्र झाँ से मिल कर आवेदन दिए हैं उसके बाद यह आशा की किरण जगी है कि अब स्थानीय पुलिस प्रशासन दोषियों तक निश्चित पहुंचकर बेटी को बरामद कर लेगी।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here