कौन सा मोहरा कौन सी चाल लालू के बेटे से मांझी की मुलाकात

0

मुलाकात एक बंद कमरे में हुई है। जिसके बाद चर्चा शुरू हो गई की आखिर उनकी इस मुलाकात की वजह क्या हो सकती है?

पटना. राजद सुप्रीमो लालू प्रसाद यादव के बड़े पुत्र तेजप्रताप यादव और पूर्व मुख्यमंत्री जीतनराम मांझी के बीच बंद कमरे में तकरीबन आधे घंटे तक चली मुलाकात ने बिहार में सियासी पारा बढ़ा दिया है.दरअसल आरजेडी मुखिया के बड़े बेटे और पार्टी के विधायक तेजप्रताप यादव शुक्रवार को पूर्व मुख्यमंत्री जीतनराम मांझी से मिलने उनके आवास पर पहुंचे। बताया जा रहा कि उनकी ये मुलाकात एक बंद कमरे में हुई है। जिसके बाद चर्चा शुरू हो गई की आखिर उनकी इस मुलाकात की वजह क्या हो सकती है? बंद कमरे में चल रहे बातचीत के दौरान तेज प्रताप यादव ने जीतन राम मांझी की लालू प्रसाद यादव से टेलीफोन पर बात भी कराई.लालू और मांझी के टेलीफोन पर हुई बातचीत के बाद कई तरह की अटकलें लगाई जा रही है.हालांकि तेजप्रताप यादव ने कहा कि मेरे अंकल हैं.इनसे मिलने हमेशा आता हूं.आज गुजर रहा था तो मिलने का गया. मांझी ने भी इसका कोई राजनीतिक अर्थ नहीं लगाने की बात कही.जीतन राम मांझी और तेजप्रताप के बीच चले मुलाकात के बाद जीतन राम मांझी ने बताया कि तेज प्रताप ने एक नए गैर राजनीतिक संगठन बनाने का ऑफर रखा है जिसमें जुड़ने का आग्रह किया है.जीतन राम मांझी ने जानकारी देते हुए बताया कि इस संगठन में सभी दलों के वरिष्ठ नेताओं को एक मंच पर साथ आने का आग्रह किया है ताकि नए जनरेशन को राजनीति के तौर तरीके और मर्यादा समझा जा सके.जीतन राम मांझी ने भी तेज प्रताप के ऑफर को स्वीकारते हुए कहा कि अगर ऐसा होता है तो मैं भी साथ में जुड़ने के लिए तैयार हूं. गौरतलब है कि बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री जीतन राम मांझी ने तेज प्रताप यादव से मुलाकात से पहले पूर्व मुख्यमंत्री जीतनराम मांझी ने शुक्रवार को ट्वीट करके आरजेडी अध्यक्ष लालू प्रसाद यादव को जन्मदिन की बधाई दी। उन्होंने अपने ट्वीट में लिखा,’बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री आदरणीय @laluprasadrjd जी को उनके जन्मदिन की अनंत शुभकामनाएं। आप दीर्घायु हों, सदैव मुस्कुराते रहें ईश्वर से यही कामना है।’ जानकारी के लिए आपको बताते चलें कि जीतन राम मांझी पिछले कुछ दिनों में एनडीए में कई सवाल उठाते रहे है.बांका बम ब्लास्ट में जब बीजेपी ने मदरसा पर सवालिया निशान खड़ा किया तो मांझी ने आगे आकर जवाबी हमला करते हुए कहा कि गरीबों के बच्चे को नक्सली और आतंकवादी बताया जाता है.वहीं एनडीए में एकबार फिर कोऑर्डिनेशन कमिटी बनाने की मांग रखकर नई चर्चा छेड़ दी.जीतन राम मांझी ने मुकेश साहनी से मुलाकात कर भी हंगामा खड़ा कर दिया था.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here