कन्याओं ने रखा रुद्रव्रत पीड़िया, नदी घाटों पर किया विसर्जित

0

सिवान: महाराजगंज प्रखंड के विशुनपुर महुआरी शिव मंदिर स्थित कन्याओं ने शनिवार को अपने भाईयों की खुशहाली, लंबी उम्र, सुख समृद्धि के प्रति रखें पड़ को नदी में विसर्जित किया। शनिवार को अहले सुबह से ही देवरिया पंचायत के विभिन्न गांव टोले से कन्याओं के मधुर गीतों से गुजायमान रहा। महुआरी बाजार शिव मंदिर स्थित सुबह होते होते कन्याओं की भारी भीड़ एकत्रित हो गई। कन्याओं ने गीत गया। कइसे के करी भैया पीडिया बरतिया हो भूखल बानी तोहने खातिर पीडिया बरतिया हो समेत अन्य फ़िल्फी धुन में तरह तरह के गीत गाकर झूमती हुई नजर आई। ज्ञात हो कि इस व्रत को रखने वाली लड़की के जितने भाई होते हैं उसी संख्या के हिसाब से प्रति भाई 16 धान से चावल निकलाकर वो सोरहिया निगलती है। व्रत के बाद इस पड़ को सुबह तालाब या नदी, पोखरों में पीड़िया के पारंपरिक गीतों के साथ बड़े ही उत्साह से विसर्जित करती हैं। साथ ही कन्‍यायें आपस में चिउड़ा और मिठाई एक दूसरे से आदान-प्रदान करती हैं फिर पारण कर व्रत तोड़ती हैं। कहा जाता है कि भाई बहन के लिए तो कई त्योहार मनाए जाते हैं पर ऐसा मात्र एक महत्वपूर्ण पर्व है जिसे प्रत्येक वाहन शुक्ल पक्ष एकम को मनाया जाने वाला रुद्रव्रत पीड़िया पौराणित कथाओं में इसका महत्व प्राचीन काल से ही बताया जाता है।

इस व्रत को पीड़िया रुद्रव्रत को ज्यादातर लड़कियां ही करती हैं। इस व्रत की शुरुआत गोवर्धन पूजा के दिन से ही हो जाती है। गोवर्धन पूजा के गोबर से ही घर के दीवारों पर छोटे छोटे पड़ों के आकार में लोक गीतों के माध्यम से पीड़िया लगायी जाती है। इस दौरान लड़कियां घर की बुजुर्ग महिलाओं से अन्नकूट से कार्तिक चतुर्दशी तक छोटी कहानी व कार्तिक पूर्णिमा से अगहन अमावस्या तक सुबह स्नान कर बड़ी कहानी सुनती है। व्रत के दिन छोटी बड़ी दोनों कथाएं सुनती हैं। इस व्रत में नए चावल व गुड़ का रसियाव बनाया जाता है जिसे व्रती दिन भर उपवास रहने के बाद शाम को सोरहिया के साथ ग्रहण करती हैं। इस दौरान उपस्थित निधि कुमारी, रानी कुमारी, नीतू कुमारी, दीपाली कुमारी, ज्योति कुमारी, आस्था कुमारी, अनुष्का कुमारी, सिद्धि कुमारी, खुशी कुमारी, स्नेहा कुमारी, संध्या कुमारी, अंजली कुमारी, सपना कुमारी, रविता कुमारी, कमलावती कुमारी, रंभा, निशा समेत अन्य कन्या मौजूद रही.

दरौली में भी रहा रूद्रव्रत पीड़िया की धूम

दरौली प्रखंड के हज़ारों की संख्या में बहनों ने भाई की लम्बी उम्र की कामना करने वाला त्योहार रूद्रव्रत पीड़िया गाजे बाजे के साथ मनाया। प्रातः काल से ही दरौली सरयु नदी पंच मंदिर घाट पर गांव गांव से बहने अपनी अपनी पीड़िया को लेकर नदी घाट पहुंची और मंगल गीतो के साथ विसर्जित किया।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here