सुपाडा साफ कि चर्चा नहीं,बीजेपी सत्ता में नहीं आई कि चर्चा चहुंओर

0

महाराजगंज। दिल्ली में हुए विधानसभा चुनाव और आम आदमी पार्टी का एक बार फिर डंके की चोट पर पूर्ण रूप से सत्ता में आने का चर्चा तो,हो ही रहा है, वहीं कांग्रेस का सूपड़ा साफ की चर्चा ना के बराबर हो रही है.बीजेपी सत्ता में नहीं आई, इसकी चर्चा जोरों पर हो रही है.जीत को किसी ने फ्री बिजली और फ्री पानी का नतीजा बताया कि आम आदमी पार्टी सत्ता में पुनः आ गई। वहीं भारतीय जनता पार्टी राष्ट्रीय मुद्दे और स्थानीय मुद्दे को छलावा बताते हुए जोरदार आजमाइश की थी परंतु सत्ता में नहीं आई,मनोज कि मुराद पुरी नही हुई.

वहां रह रहे कुछ लोगों कार्यकर्ताओं से बात करने से यह स्पष्ट हो गया कि नेता और कार्यकर्ता के बीच काफी दुरी है,सोशल मीडिया पर कुछ वीडियो वायरल दूरी की सच्चाई बयां कर रही है। लोकसभा चुनाव में जिस तरह से बिहार में भी सांसदों का लोगों ने बाय काट किया था। परंतु देश हित में नरेंद्र मोदी की अगुवाई में लोगों ने सांसद को वोट देकर जीता दिया परंतु स्थानीय मुद्दों को लेकर हुए विधानसभा चुनाव में दिल्ली में लोगों ने नरेंद्र मोदी की बात को नहीं मानी और चारों खाने चीत हो गई।

चाहे जो भी हो बीजेपी आई नहीं,कांग्रेस पहुंची नहीं,केजरीवाल का काम हो गया,लोगों को फ्री पानी,फ्री बिजली,फ्री में महिलाओं कि यात्रा, फ्री में शिक्षा चिकित्सा का मजा लीजिए और सातवें आठवें वेतन कि मांग कीजिए,आर्थिक मंदी कि चर्चा कीजिए।

दिल्ली कि जीत का असर बिहार पर पडेगा ?

कुछ लोगों की मांने को दिल्ली में आप है,तो बिहार में नितीश कुमार की धामाकेदार बीजेपी का साथ हैं स्थानीय नेताओं की करनी कथनी पर टिकट मिलेगा,केवल सिंबल नहीं नेताजी की जनता का जूडाव के आधार पर टिकट मिला तो फिर नितीश कुमार।

रही बात फ्री बिजली,फ्री चिकित्सा,फ्री शिक्षा,फ्री यात्रा, यहां पहले ही विद्यालयों के चकाचक भवन,अस्पतालों के चकाचक बिल्डिंग पहले से ही मौजूद है,भले ही अस्पताल में डाक्टर नही है, गुणवत्ता पूर्ण शिक्षा नदारद है,समान काम समान वेतन का बोलबाला है।जहां अस्पताल में कुत्ता काटने पर दिया जाने वाला इंजेक्शन नही है तो केंसर का ईलाज की चर्चा होगी,यहां तो बहार है फिर नितीश कुमार है ,या चारा घोटाला, जंगल राज या कुछ और होगा फिलहाल खिचड़ी है,मिक्स भेजिटेबल का मजा लीजिये,अलग अलग चाहते है तो धरना दीजिए या कसम खिलाकर राजद,जदयू,और भाजपा को अलग अलग लड़ाकर देखिए का होता है. बुरबक की तरह बात मत कीजिये,बिहार का गौरवशाली इतिहास रहा है हम इतिहास रचने वाले है शांतिपूर्ण,सौहार्दपूर्ण वातावरण में रहिए अपने इष्टदेव का स्मरण कीजिए.

इनपुट: दिलीप कुमार सिंह

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here