सीवान सिविल सर्जन डॉ.अशेष कुमार को उनके तात्कालीन प्रभाव से अगले आदेश तक निलंबित किया गया हैं।

0

अधिसूचना में कहा गया हैं कि उनके द्वारा संचालित निजी अस्पताल एवं झोला छाप चिकित्सको की सूची की मांग की गई थी।

सीवान। सिविल सर्जन डॉ अशेष कुमार को उनके तात्कालीन प्रभाव से अगले आदेश तक निलंबित किया गया हैं। आरोप हैं कि सीवान के अब तत्कालीन सिविल सर्जन डॉ अशेष कुमार 25 मार्च 2020 को एक पत्रांक 414 जारी कर नोवल कोरोना वायरस से बचाव हेतु सीवान जिला के सभी प्रखंडो में झोला छाप चिकित्सकों को चिन्हित करते हुए उनसे इलाज हेतु सहमति पत्र प्राप्त कर प्रशिक्षण देने के संबंध में सीवान जिलांतर्गत सभी उपाधीक्षक एवं प्रभारी चिकित्सा पदाधिकारियों को आदेश निर्गत कर अपने क्षेत्र में संचालित निजी अस्पताल एवं झोला छाप चिकित्सको के सूची की मांग की गई। इस आशय का पत्र,सिविल सर्जन सीवान के स्तर से निर्गत करने से कोविड-19 के संक्रमण से रोकथाम हेतु विभाग एवं राज्य सरकार द्वारा किए जा रहे सभी प्रयास (UNDERMINE) हुए प्रतीत होता हैं। इस आदेश के निर्गमन के पूर्व न तो विभाग से अनुमति नहीं ली गई। ओर न ही विभाग को इसकी सूचना दी गई। लिखा गया हैं।

की इस पत्र को (SOCIAL MEDIA) पर (VIRAL) होने से विभाग को आलोचना का शिकार होना पड़ा हैं। बताया गया हैं। कि डॉ अशेष कुमार के इस कृत्य से पूरे देश मे स्वास्थ्य विभाग,बिहार की छवि धूमिल हुई हैं। साथ ही डॉ अशेष कुमार द्वारा इस प्रकार की कार्रवाई की गई जो चिकित्सीय नवाचार (MEDICINAL PORTOCOL) के सर्वथा विरुद्ध एवं अनुचित हैं। इस दौरान सीवान के तत्कालीन सिविल सर्जन डॉ अशेष कुमार को सभी कृत्य के लिए उन्हें बिहार सरकारी सेवक (वर्गीकरण नियंत्रण एवं अपील) नियमावली-2005 के नियम-9 (1) (क) के तहत तात्कालीन प्रभाव से अगले आदेश तक निलंबित किया गया हैं। गौरतलब हो कि यह निलंबन बिहार राज्यपाल के आदेश तथा सरकार के सयुक्त सचिव अनिल कुमार के हस्ताक्षर के द्वारा ही किया गया हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here