गुरु की गरिमा को किया शर्मसार कहा: सारा राजपूताई घुसेड़ देंगे

0

छपरा.आज तो हद हो गया जयप्रकाश विश्वविद्यालय छपरा के कैंपस में जेपीयू के अतिथि शिक्षकों का रिन्यूअल को लेकर प्रदर्शन चल रहा था। अपनी मांगों को लेकर कोई भी संघर्ष कर सकता है लेकिन हद तो जब हो गई कि अतिथि शिक्षक जो छात्र-छात्राओं को महाविद्यालय में शिक्षा देते हैं और संस्कार एवं अनुशासन की पाठ पढ़ाते हैं आज उनके धरना प्रदर्शन कार्यक्रम में यह सारी चीजें तार-तार हो गई एक अतिथि शिक्षक कहते हैं कि कुलपति के …[email protected]भांस कर भागलपुर भेज देंगे। तो एक अपने को एससी-एसटी कम्युनिटी के पुरोधा डॉ.इंद्र कांत बबलू जैसे ही स्वर्ण जाति के पदाधिकारियों को देखते हैं तो अपना आपा खो देते हैं और बोलते हैं कि सारा राजपूताई घुसेड़ देंगे। यह है डॉक्टर इंद्रकांत बबलू यह वर्तमान में नंदलाल सिंह महाविद्यालय में अतिथि शिक्षक के रूप में कार्यरत है और बार-बार बोलते हैं कि नीतीश कुमार के पार्टी से मैं बिलॉन्ग करता हूं। राजभवन के पदाधिकारियों को नाम लेकर बोलते हैं कि मैं उनसे काम करा दूंगा। आप खुद पूरा वीडियो सुनकर आप लोग निर्णय ले कि ऐसे व्यक्ति क्या शिक्षक हो सकता है ऐसे व्यक्ति क्या रिन्यूअल होना चाहिए जो जात-पात की बात सार्वजनिक मंचों पर सामूहिक रूप से करता हो। ये सब कुलपति निरीह प्राणी जैसे खरे होकर सुन रहे है। कुलपति कि माने तो उनका नीतिगत निर्णय एवं वित्तीय पावर सीज है इसलिए आप लोगों का मैं रिन्यूअल नहीं कर सकता हू। जयप्रकाश विश्वविद्यालय छपरा में 11 महीने के लिए अतिथि शिक्षकों की बहाली हुई थी। और 11 महीना के बाद फिर से रिन्यूअल कराने के लिए अतिथि शिक्षक आंदोलन कर रहे हैं। लेकिन जिस तरह से शिक्षक पद की मर्यादा तार-तार हुई है आज । इस मामले में कोई कार्रवाई राजभवन करेगा या नही यह आने वाला समय बताएगा.हालांकि छात्र नेताओं में कहीं ना कहीं नाराजगी देखने को मिल रही है.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here