कोरोना से सावधानी को ले प्रधानमंत्री मोदी ने किया राष्ट्र को संबोधित,22 मार्च को जनता कर्फ्यू

0

राष्ट्र को संबोधित करते हुए प्रधानमंत्री ने कहा कि 22 मार्च को जनता कर्फ्यू लागू होगा लोग कृपया अपने घरों से ना निकले।

नई दिल्ली। देश मे बढ़ रहे कोरोना वायरस को लेकर भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने देश को संबोधित करते हुए कहा कि आज पूरी दुनिया महामारी की चपेट में है। मुझे देशवासियों से एक हफ्ते का वक्त चाहिए। प्रधानमंत्री ने कोरोना के मुकाबले के लिए जनता कर्फ्यू लगाने की बात कही है, अपने संबोधन में उन्होंने कहा कि 22 मार्च को पूरे देश में जनता कर्फ्यू लागू होगी। कोरोना से बचने के लिए लोग अपने घर से नहीं निकले। उन्होंने देशवासियों से इसे रविवार कर्फ्यू का पालन करने की बात कहीं हैं। उन्होंने कहा कि हम कोरोना से बच गए,ये सोचना अभी ठीक नहीं है। प्रधानमंत्री ने संक्रमण रोकने में लगे राज्य सरकारों,डॉक्टर्स, पैरामेडिकल कर्मचारियों,पैरामिलिट्री फोर्स और एविएशन क्षेत्र,नगरपालिका कर्मचारियों और इस काम में जुटे सभी लोगों का आभार प्रकट किया। उन्होंने संक्रमण से लड़ने में आम लोगों,स्थानीय समुदायों और संगठनों को शामिल करने का सुझाव दिया।

उन्होंने अधिकारियों और तकनीकी विशेषज्ञों से आगे उठाए जाने वाले कदमों पर सोचने को कहा। उन्होंने कहा कि देश में अभी तक कोरोना वायरस संक्रमितों की संख्या 171 हो गई है। प्रधानमंत्री मोदी ने दिल्ली के एक डॉक्टर की कोरोनावायरस को लेकर देश के लोगों को दिए गए संदेश की तारीफ की। संक्रमण से निपटने की लड़ाई में कई डॉक्टर आगे हैं। कोई भी शब्द इनके प्रयासों को बताने के लिए काफी नहीं है। इस डॉक्टर ने ट्वीट कर कहा था- हम आप लोगों के लिए काम कर रहे हैं, आप हमारे लिए अपने घर पर रुकें। मुझे भरोसा है कि आने वाले समय में भी आप अपने कर्तव्यों का, अपने दायित्वों का इसी तरह निर्वहन करते रहेंगे। हां, मैं मानता हूं कि ऐसे समय में कुछ कठिनाइयां भी आती हैं, आशंकाओं और अफवाहों का वातावरण भी पैदा होता है। हर कोई अपने तरीके से इस वैश्विक महामारी से बचने के लिए योगदान दे रहा है। आवश्यक है कि इस वातावरण में मानव जाति विजय हो भारत विजय हो। कुछ दिन में नवरात्रि का पर्व आ रहा है। भारत पूरी शक्ति के साथ आगे बढ़े. आइए हम भी बचें और देश को बचाएं। कई बार एक नागरिक के तौर पर हमारी अपेक्षाएं पूरी नहीं हो पाती है। ऐसी स्थिति में सारे देशवासियों के इन दिक्कतों के बीच इन कठिनाइयों का मुकाबला करने की आवश्यक्ता है मेरा सभी देशवासियों से आग्रह है कि जरूरी सामान संग्रह करने की होड़ नहीं लगाएं। पैनिक में खरीददारी करने से बचें।130 करोड़ देश के नागरिक ने अपना संकट माना है। भारत के लिए समाज के लिए, हर किसी ने किया है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here