प्राथमिक शिक्षक प्रोन्नति को ले सत्ता पक्ष के विधायक ने भी खड़े किए सवाल

0

सिवान: जीरादेई विधायक रमेश सिंह कुशवाहा ने जिलाधिकारी कार्यालय को पत्र लिखकर जिले के प्रारंभिक शिक्षकों की स्नातक कला, विज्ञान प्रशिक्षित के लिए जो वरीयता सूचि का निर्माण जिला शिक्षा पदाधिकारी एवं जिला कार्यक्रम पदाधिकारी के द्वारा किया गया है। उस सूची में व्यापक अनियमितता की शिकायत दर्ज कर जाँच पड़ताल करने की माँग की है। विधायक ने कहा है कि उक्त दोनों पदाधिकारी के द्वारा जानबूझकर शिक्षको की हक की हकमारी की गई है।इतना ही नहीं उसी दोषपूर्ण वरीयता सूचि से प्रोन्नति उपरांत पदस्थापन भी की जा रही है जिससे दो सीढ़ी और बढ़कर अनियमितता की गई है।शिक्षको से वांछित स्थान के लिए प्राथमिकता के आधार पर तीन विकल्प की मांग की गईलेकिन जिला कार्यक्रम पदाधिकारी द्वारा तीन शिक्षको को जो स्वयं प्रोन्नति का हिस्शा है को इस सम्पूर्ण कार्य में लगाया जिससे वे अपने चहेते लोगो को मनोनुकोल स्थान पर पदस्थापन कर दिया।सबसे हैरानी की बात है कि उक्त दोनों ही पदाधिकारी मृत शिक्षक का भी पदस्थापन कर दिया।यह अपने आप में डीपीओ स्थापना की अनियमितता कारगुजारी को प्रदर्शित करता है साथ ही जाँच के घेरे में आता है।इन सभी विसंगतियो अनियमितता को लेकर नए सिरे से पारदर्शी तरीके से वरीयता सूचि निर्माण कर कैंप लगाकर पदस्थापन करने की बात कही है साथ ही तत्काल प्रभाव से प्रोन्नति संबंधी आदेश को स्थगित करने की अनुशंसा की है।ऐसे में बिहार राज्य प्राथमिक शिक्षक संघ के द्वारा पूर्व में वरीयता सूचि में अनियमितता को लेकर द्वय पदाधिकारियो को संज्ञान में ससमय दे दिया गया है बावुजूद उक्त दोनों ही पदाधिकारी एवं कर्मी शिक्षक हीत की ओर ध्यान नहीं किया।प्रधान सचिव रामप्रवेश सिंह व जिला अध्यछ रामेशेर पाठक ने जन प्रतिनिधयों के हस्तक्षेप का स्वागत किया है।प्रवक्ता कुमार राजकपूर”टीपू”ने कहा कि त्रुटि रहित सूचि विभाग के लिए तैयार करने की पहल करनी चाहिए क्योंकि यह अपने आप में सवाल है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here