महाराष्ट्र के शिक्षक ने रचा इतिहास,दुनिया का सर्वश्रेष्ठ शिक्षक होने का मिला सम्मान

0

सोलापुर स्थित जिला परिषद स्कूल के प्राइमरी टीचर रणजीत सिंह डिसने को ग्लोबल टीचर पुरस्कार के लिए चुने जाने पर 7 करोड़ रुपये की इनाम राशि भी मिली है.

महाराष्ट्र. के एक शिक्षक ने ना तो केवल दुनिया में सर्वश्रेष्ठ शिक्षक होने का इतिहास रचा है बल्कि इनाम के तौर पर 7 करोड़ रुपये भी हासिल की है. महाराष्ट्र के सोलापुर स्थित जिला परिषद स्कूल के प्राइमरी शिक्षक रणजीत सिंह डिसने को ग्लोबल टीचर पुरस्कार के लिए चुना गया. हालांकि यह इतिहास में पहली बार है जब किसी भारतीय को दुनिया भर में सर्वश्रेष्ठ शिक्षक होने का सम्मान हासिल हुआ है. गौरतलब हो कि यूनेस्को और लंदन स्थित वार्की फाउंडेशन द्वारा दिए जाने वाले वैश्विक शिक्षक पुरस्कार की घोषणा गुरुवार तीन दिसंबर को हुई। इस स्पर्धा में दुनिया के 140 देशों के 12 हजार से ज्यादा शिक्षकों ने हिस्सा लिया था. भारतीय मूल से आने वाले शिक्षक रणजीत सिंह डिसने को लड़कियों की शिक्षा को बढ़ावा देने और टेक्स बुक में QR क्रांति लाने के प्रयास के लिए रणजीत सिंह को यह इनाम मिला हैं.इधर इनाम डिसले ने इनाम में मिली राशि का 50 प्रतिशत हिस्सा अंतिम दौर तक पहुंचने वाले नौ अन्य शिक्षकों के साथ बांटने की घोषणा की है। उन्होंने कहा कि बाकी 50 प्रतिशत राशि का इस्तेमाल वे एक फंड बनाने के लिए करेंगे जिसका उपयोग उन शिक्षकों की मदद के लिए होगा जो अच्छा काम कर रहे हैं.जिला परिषद स्कूल के प्राइमरी शिक्षक की इतनी बड़ी उपलब्धि हासिल के बाद महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने बधाई दी है.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here