महाराजगंज जिला बनाओ सर्वदलीय संघर्ष समिति के सदस्यों ने की बैठक

0

महाराजगंज. जिला बनाओ सर्वदलीय संघर्ष समिति की एक बैठक अनुमंडल मुख्यालय के सरस्वती विद्या मंदिर के बगल में मनन सिंह के आवास पर हुई। बैठक की अध्यक्षता रविन्द्र कुमार सिंह ‘अधिवक्ता’ ने किया। बैठक में महाराजगंज प्रखंड के पूर्व प्रमुख इम्तियाज अहमद ने कहा कि महाराजगंज की जनता ने अभी तक महाराजगंज को जिला बनाने की अनेक लड़ाई लड़ी है लेकिन अभी तक वह सार्थक नहीं हुई है। इस लड़ाई को सार्थक बनाने के लिए इसमें ज्यादा से ज्यादा की संख्या में नौजवानों को जोड़ा जाए ताकि इस आंदोलन को मुकाम तक पहुंचाया जा सके। उन्होंने कहा कि गांधीजी ने देश को आजादी दिलाने के लिए आंदोलन को हथियार बनाया था उसी आंदोलन रूपी हथियार से महाराजगंज को जिला बनाया जाएगा। बैठक को संबोधित करते हुए स्वतंत्रता सेनानी कामरेड मुंशी सिंह ने कहा कि राजीव गांधी की सरकार ने लोकसभा में कानून बनाया कि देश में जितने भी संसदीय क्षेत्र है उनको जिला मुख्यालय में तब्दील कर दिया जाए। उन्होंने कहा कि महाराजगंज संसदीय क्षेत्र, विधानसभा और अनुमंडल है जो जिला बनने के अपने सभी अहर्ता को पूर्ण करता है। इन सभी अहर्ता को पूर्ण करने के बावजूद भी महाराजगंज को जिला नहीं बनाया जा रहा है जो महाराजगंज की जनता के साथ घोर अन्याय है। उन्होंने कहा कि महाराजगंज दुरौंधा रेलखंड के उद्घाटन के समय तत्कालीन रेल मंत्री नीतीश कुमार ने सबसे पहले महाराजगंज को जिला बनाने की बात कही थी। अब जबकि उनकी ही सरकार है तो वह महाराजगंज की जनता से किए गए अपने वादे को निभा नहीं रहे है। सेवा यात्रा के दौरान सारण जिला के एकमा प्रवास के दरम्यान उन्होंने कहा कि मैं महाराजगंज नहीं आया अगर मैं महाराजगंज आता तो यहां की जनता मुझसे जिला बनाने की मांग करती। मुंशी सिंह ने कहा कि महाराजगंज को जिला बनाने को लेकर की गई माँगों पर सरकार की तरफ से कई चिट्ठी आई। जिला पदाधिकारी, सिवान से रिपोर्ट माँगा गया लेकिन 5-6 साल से वो चिट्ठियाँ जिला पदाधिकारी के पास लंबित पड़ी हुई है और कोई रिपोर्ट उनके स्तर से नहीं भेजी गई है। बैठक में अन्य वक्ताओं ने भी अपनी बात रखी जिनमें महाराजगंज के सामाजिक कार्यकर्ता पुनीत पुष्कर ने कहा कि इस आंदोलन में अनुमंडल के सभी प्रखंडों के गणमान्य व्यक्तियों को जोड़ा जाए ताकि जिला बनाओ सर्वदलीय संघर्ष समिति के आंदोलन की धार को तेज किया जा सके। उन्होंने यह भी प्रस्ताव रखा कि प्रस्तावित जिला क्षेत्र की जनता से 1 लाख से ज्यादा पोस्टकार्ड हस्ताक्षर करा के सरकार को भेजा जाए ताकि सरकार को पता चले कि यहाँ की जनता क्या चाहती है।उन्होंने कहा कि हमें कागजी से लेकर जमीनी स्तर तक लड़ाई लड़नी होगी तभी जाकर महाराजगंज जिला बन पाएगा। इस बात पर सभी उपस्थित सदस्यों ने सहमति व्यक्त की।

बैठक में सर्वसम्मति से तय किया गया स्वतंत्रता सेनानी मुंशी सिंह के नेतृत्व में एक प्रतिनिधिमंडल स्थानीय विधायक विजय शंकर दुबे से मुलाकात कर महाराजगंज की जनता से अपने किए गए वादों को पूर्ण करने की बात कहेगा। बैठक में ज्यादा से ज्यादा की संख्या में नौजवानों को जोड़ा जाए और अनुमंडल के सभी प्रखंडों में जिला बनाओ आन्दोलन को तेज किया जाएगा। बैठक में स्वतंत्रता सेनानी कामरेड मुंशी सिंह,पूर्व प्रमुख इम्तियाज अहमद, जनक देव साह, मदन सिंह,मिंटू सिंह, दयाशंकर द्विवेदी,अधिवक्ता रविंद्र सिंह,लल्लन ठाकुर,जोगिंदर सिंह उर्फ गार्ड बाबू,राजेंद्र प्रसाद, बिट्टू सिंह,विश्वनाथ प्रसाद,सुनील कुमार प्रसाद, मुखिया प्रत्याशी सुजीत कुमार,सामाजिक कार्यकर्ता पुनीत पुष्कर,विद्याभूषण मिश्रा आदि उपस्थित थे।

स्वतंत्रता सेनानी मुंशी सिंह के नेतृत्व में विधायक से मिला प्रतिनिधिमंडल

महाराजगंज को जिला बनाने को लेकर सर्वदलीय संघर्ष समिति के संयोजक स्वतंत्रता सेनानी मुंशी सिंह के नेतृत्व में एक प्रतिनिधिमंडल रविवार को विधायक विजय शंकर दुबे के अस्थाई आवास पर मुलाकात किया। प्रतिनिधिमंडल ने विधायक से महाराजगंज जिला बनाने की बात कही। मुंशी सिंह ने कहा कि विधायक महाराजगंज की जनता के साथ किए गए अपने वादे को सरकार के समक्ष उठावे और महाराजगंज को जिला बनाने में अपना सहयोग दें। विधायक विजय शंकर दुबे ने कहा कि मैं महाराजगंज की जनता के इस लड़ाई में हर तरह से सहयोग करने के लिए तैयार हूँ। उन्होंने कहा कि महाराजगंज की जनता के चिर-परिचित मांग को जनता की आवाज बनकर विधानसभा में सरकार के समक्ष जरूर उठाऊँगा। उन्होंने कहा कि जब एक प्रखंड पर शेखपुरा और शिवहर जिला बन सकता है तो महाराजगंज अनुमंडल में छह प्रखंड हैं, जो जिला बनने के अपने सभी अहर्ता को पूर्ण करता है। उन्होंने कहा कि इस लड़ाई में में अपना सर्वश्रेष्ठ योगदान करने के लिए तैयार हूँ.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here