जानिए महाराजगंज में संदीप को चाकू मार क्यों उतारा गया मौत के घाट

0

बर्गर वाले कारीगर ने चाकू घोंप उतारा मौत के घाट

सीवान: महाराजगंज में सोमवार की दोपहर चाकु मार हुई युवक की मौत में कुछ अलग ही खुलासा हुआ है. आपको बता दें कि सीवान नगर थाना क्षेत्र के कसेरा गांव निवासी संदीप कुमार सोनी, पिता मक्केश्वर प्रसाद सोनी है.घटना के संदर्भ में बताया जाता है. की संदीप सोमवार को अपने चार दोस्तों के साथ बाइक पर अपने बर्गर बनाने वाले कारीगर को ढूढ़ने बाइक से निकला हुआ था.

घटना के समय मौके पर मौजूद जख़्मी दोस्त आशीष ने बताया कि में अपने संबंध के लड़के कमलेश से महाराजगंज वाले कारीगर के बारे में पूछ की वे काम पर क्यो नही आ रहा है. वहीं संदीप से मिलने के लिए कारीगर ने प्रकाश ने महाराजगंज मिलने को बुलाया था. जहां सोमवार को महाराजगंज में संदीप कुमार सोनी अपने दोस्तों के साथ कारीगर प्रकाश के साथ मिला. दोस्त आशिष ने बताया कि जब हम लोग बर्गर कारीगर प्रकाश से मिलने पहूंचे तो प्रकाश के साथ उनके अन्य तीन साथी भी मौजूद थे. प्रकाश से लगभग 20 मिनट तक बातें हुईं उसके बाद बर्गर कारीगर प्रकाश ने उनके यहां काम करने से मना कर दिया.उसने अबतक के काम में निकल रहे शेष तीन हजार रुपये और समान की मांग संदीप से किया. बता दे कि बात करते- करते बर्गर कारीगर प्रकाश ने संदीप के पीठ में चाकू घोंप दिया. घटना के बाद संदीप कुमार सोनी को आनन-फानन में पास के स्वास्थ्य केंद्र ले जाया गया जहां चिकित्सकों ने गंभीर हालत में सीवान सदर अस्पताल रेफर कर दिया.

■ हलवाई का काम किया करता था संदीप

सीवान नगर थाना क्षेत्र के कसेरा टोली गांव निवासी संदीप कुमार सोनी पेशे से खाना बनाने का काम किया करता था.संदीप चार भाईयों में दूसरे नंबर पर है. घटना के संदर्भ में बता दें कि संदीप का बर्गर बनाने वाला कारीगर प्रकाश पिछले 10 दिनों तक काम करने के बाद अपने मालिक संदीप से 1000 रुपया लेकर मौनिया बाबा मेला देखने के लिए सीवान से लौट आया. था. जो सोमवार को संदीप महाराजगंज में बर्गर कारीगर प्रकाश को अपने दुकान पर बुलाने के लिए महाराजगंज में गया हुआ था.

जहां प्रकाश ने संदीप से पिछले 10 दिनों के काम में और तीन हजार रुपये और अपनी सामग्री की मांग की और काम पर नहीं जाने का दावा किया. बता दें कि तीन रुपयों को लेकर प्रकाश और संदीप के बीच काफी देर तक बकझक हुई. बकझक के दौरान प्रकाश ने संदीप के पीठ में चाकू घोंप दिया.जहां संदीप की गंभीर हालत में सीवान सदर अस्पताल ले जाने के क्रम में मौत हो गई.

जानकारी के लिए बता दे कि संदीप के पिता मक्केश्वर प्रसाद पेशे से नौकरी कर परिवार का भरण पोषण किया करते हैं. घटना की सूचना जब परिजनों को मिली तो अस्पताल पहुंच शव को सदर अस्पताल मेन गेट पर रख हंगामा करना शुरू कर दिया. घंटों हंगामे के बाद परिजन प्रशासन से अपराधियों की गिरफ्तारी की मांग कर रहे थे. वही घटना की सूचना पाकर नगर इंस्पेक्टर ने परिजनों को समझा-बुझाकर आरोपियों के ऊपर तुरंत कार्रवाई करने की आश्वासन दिए तब कहीं जाकर हंगामा शांत हुआ. वही प्रशासन शव को अपने कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम के लिए शव भेजा.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here