इस्तीफा के बाद ज्योतिरादित्य सिंधिया का भाजपा की समर्थन,मध्य प्रदेश में भाजपा की सरकार?..

0

मध्य प्रदेश। ज्योतिरादित्य सिंधिया के कांग्रेस से इस्तीफा देने के बाद अब सियासी खेल शुरू हो गई है। बताया जा रहा है कि पार्टी विरोधी गतिविधियों के कारण कांग्रेस ने ज्योतिरादित्य सिंधिया को अपने पार्टी से निकाल दिया था। हालांकि ज्योतिरादित्य समर्थकों की मानें तो उन्होंने खुद ही पार्टी से इस्तीफा दिया है। इधर कांग्रेस से नाराज सिंधिया ने दिल्ली में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और गृहमंत्री अमित शाह से मुलाकात की।सिंधिया के इस फैसले से कमलनाथ की सरकार डूबती हुई नजर आ रही है. विदित हो कि मध्य प्रदेश में मध्य प्रदेश में 230 विधानसभा सीटें हैं.दो विधायकों का निधन हो गया है। जादुई आकंड़ा 115 है. अब तक की तस्वीर के मुताबिक, कांग्रेस के 114 विधायक हैं और 4 निर्दलीय, 2 बहुजन समाज पार्टी और एक समाजवादी पार्टी विधायक का समर्थन उसके साथ है.यानी मौजूदा स्थिति में कांग्रेस के पास कुल 121 विधायकों का समर्थन है.जबकि बीजेपी के पास 107 विधायक हैं.लेकिन बीजेपी ज्योतिरादित्य सिंधिया के हाथों में है,जो कांग्रेस छोड़ चुके हैं. फिलहाल 17-24 विधायक ऐसे बताए जा रहे हैं जिन्होंने कांग्रेस से बगावत कर ली है. इनमें ज्यादातर विधायक सिंधिया खेमे के हैं.ये विधायक कर्नाटक में हैं और उनके फोन भी स्विच ऑफ हैं।बीजेपी सूत्रों का कहना है कि 20 विधायक इस्तीफा दे सकते हैं.