जम्मू कश्मीर 25 हजार करोड़ के जमीन घोटाले में बड़ा खुलासा इन बड़े लोगों का नाम भी शामिल

0

श्रीनगर.जम्मू कश्मीर में 25 हजार करोड़ रुपयों के जमीन घोटाले का बड़ा पर्दा फास हुआ हैं.बताते चले कि इस घोटले में पूर्व मुख्यमंत्री और नेशनल कांफ्रेंस के चीफ फारूक अब्दुल्ला सहित कई बड़े नाम निकलकर सामने आ रहे हैं.इधर जमीन घोटाले के मामले में चल रहे सीबीआई जांच में यह खुलासा हुआ हैं कि अब्दुल्ला ने 1998 में जम्मू डिवीजन के संजवान इलाके में अलग-अलग लोगों से तीन कनाल जमीन खरीदी,लेकिन साथ में आसपास की सात कनाल जंगल की जमीन पर भी कब्जा कर घर का निर्माण कर लिया।

सीबीआई की जांच के मुताबिक, अब्दुल्ला ने इसके बाद जम्मू और श्रीनगर में विशेष रोशनी एक्ट का सहारा लेकर अपनी बहन सुरैया मट्टू और अपनी पार्टी के लिए अवैध रूप से जमीन आवंटित कराई. इसके अलावा उनके करीबी लोगों ने भी संजवान इलाके में वन और सरकारी जमीन पर अवैध कब्जा किया. इसमें खासतौर पर एनसी नेता सैय्यद अली अखून का नाम शामिल है.कहा यह जा रहा हैं कि फारूक अब्दुल्ला ने जिस सात कनाल जमीन पर अवैध कब्जा किया, उसकी कीमत करीब दस करोड़ रुपये हैं. इस इलाके में कुल मिलाकर जो तीस कनाल जमीन अवैध ढंग से अलग-अलग लोगों ने हड़प ली, उसकी कीमत करीब 40 करोड़ रुपये है.

गरीब तबके के लिए बनाया गया था रोशनी एक्ट

गौरतलब है कि 1999 के पहले जो सरकारी जमीन थी उसे गरीब तमगे के लोगों को विधिपूर्वक जमीन उपलब्ध कराने के लिए रोशनी एक्ट बनाया गया था. इसका दूसरा उपयोग पॉवर प्रोजेक्ट के लिए पैसा इकट्ठा करना था ताकि उसे जम्मू-कश्मीर के पॉवर प्रोजेक्ट में लगाया जा सके. 2001 में इसे बनाया गया था. लेकिन इसमें समय-समय पर संशोधन किया जाता रहा. समय-समय पर राज्य में सरकारें बदलती रहीं और लगातार राजनेताओं को फायदा उठाने का मौका दिया जाता रहा.इस घोटाले में कई बिजनेसमैन और अफसरशाहों के नाम भी सामने आए हैं. राज्य के एलजी मनोज सिन्हा ने साफ-साफ कहा था कि सभी से जमीन वापस ली जाएगी. यही वजह है कि अब ये कदम उठाए जा रहे हैं. इन लोगों ने सरकारी जमीन को अपने नाम तो किया ही साथ ही साथ अपने रिश्तेदारों को भी दिलवाई. अब हाई कोर्ट के आदेश के बाद इन लोगों से जमीन वापस ली जाएगी. उम्मीद की जा रही है कि राज्य में होने वाले डीडीसी चुनावों के दौरान यह एक बड़ा मुद्दा बन सकता है.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here