कोरोना संकट के बीच हरी सब्जियों के बढ़े भाव

0

महाराजगंज.शहर के सब्जी मंडी में पिछले दो महीनों से हरी सब्जियां लगभग दोगुने दामों में बिक रहा हैं. जिससे आम लोगों की थाली का स्वाद फीका पड़ गया है,वहीं इन सब्जियों को उगाने वाले किसान कोरोना लॉकडाउन के बाद बारिश और फसलों पर कीटों के प्रकोप से नुकसान झेल रहे हैं। अप्रैल और मई में लॉकडाउन के दौरान पाबंदियों की वजह से बड़ी संख्या में किसान अपनी सब्जियों की उपज मंडी तक नहीं पहुंचा पाए। ऐसे में इन किसानों को या तो औने-पौने दामों में सब्जियां बेचनी पड़ी या तो उनकी फसलें खेतों में ही सड़ गईं। रही सही कसर अब बारिश और कीटों के प्रकोप ने पूरी कर दी है। लॉकडाउन में नुकसान उठाने वाले ज्यादातर किसानों की सब्जियों की फसलें बारिश के मौसम में खराब हो गईं। ऐसे में जुलाई के अंत और अगस्त माह में सब्जियों का आयात काफी कम होने से सब्जियों के दाम आसमान छू रहे हैं. प्रखंड के ग्रामीण क्षेत्रों की बात करें तो यहाँ ज्यादातर किसान सब्जियों की खेती करते हैं। मगर फसलें ख़राब होने और सब्जियों के दाम न मिलने से अब कई किसान धान की खेती कर रहे हैं, प्रखंड के विशुनपुर महुआरी निवासी किसान सुग्रीव महतो ने बताया कि मार्च-अप्रैल में सब्जी की फसल बहुत अच्छी आई थी,मगर कोरोना की वजह से बाहर जा नहीं पायी,अब जब सब्जी का भाव मिल रहा है तो बारिश की वजह से फसल नहीं लग पायी,डेढ़ महीने से लगभग हर दो-तीन दिन में लगातार बारिश हो रही हैं.जिसकी वजह से काफी परेशानी हैं.


एक नज़र मार्केट में सब्जियों के भाव


आलू- 30- 32 रुपये

बैंगन 38- 40 रुपये

खीरा 29-30 रुपये

करैला 38 – 40 रुपये

परवल 75- 80 रुपये

भिडी 27- 30 रुपये

लौकी 25- 30 रुपये

नेनुआ 20- 25 रुपये

प्याज-18- 20 रुपये

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here