लॉकडाउन की स्थिति में कुछ लोग सुधरने का नाम तक नहीं ले रहे,गैस प्रशासन की भी बड़ी लापरवाही

0

एजेंसी के मालिक को चाहिए कि लोगों के दरवाजे पर कुछ माह के लिए होम-डिलीवरी गैस वितरण सुविधा हो।

महाराजगंज। एक तरफ कोरोना वायरस जैसी गंभीर महामारी से बचाव को लेकर सरकार की प्रशासन लोगों को काफी सतर्कता बरतने की बात कह रही है। बिहार में लॉकडाउन की स्थिति के बावजूद भी कुछ लोग सुधरने तक का नाम नहीं ले रहे हैं। हालांकि सरकार ने यह भी कह रखा है कि जरूरतमंद चीजों के लिए इमरजेंसी में कोई भी व्यक्ति अपने घरों से बाहर निकल सकता है। ताजा मामला महाराजगंज शहर मुख्यालय के शकुंतला इंडियन गैस एजेंसी की है। जहां सुबह से ही सैकड़ों लोगों की लंबी कतार देखने को मिली। अगर इसमें से किसी व्यक्ति में कोरोना जैसी गंभीर बीमारियों का लक्षण पाई जाती है तो समझिए कि एक व्यक्ति कई व्यक्तियों को बीमार बनाने में कितना असरदार साबित होगा। हालांकि यह बात एजेंसी प्रशासन को समझने की देरी है। तस्वीरों में आप देख सकते हैं कि अपने गैस लेने की बारी का इंतजार कर रहे उपभोक्ता एक दूसरे के काफी नजदीक है। स्वास्थ्य विभाग ने भी यह जानकारी दे चुकी है कि कोई भी व्यक्ति एक दूसरे से एक मीटर की दूरी बनाए रखें। हालांकि इस तस्वीरों से यह कहा जा सकता है कि राज्य सरकार की जारी लॉकडाउन कानून का मखौल उड़ रहा है। गैस एजेंसी के मालिक को चाहिए कि लोगों के दरवाजे पर कुछ माह के लिए होम-डिलीवरी गैस वितरण सुविधा की मुहैया कराई जाये। इससे लोगों की भीड़ पर संभवत लगाम लगाया जा सकता है.

भीड़-भाड़ की जानकारी मिलते ही एसडीओ ने दी पदाधिकारियों को निर्देश

महाराजगंज शकुंतला गैस एजेंसी पर उपभोक्ताओं की भीड़-भाड़ की सूचना प्राप्त होते ही महाराजगंज एसडीओ मंजीत कुमार ने थानाध्यक्ष मनीष कुमार साह,बीडीओ नंदकिशोर साह तथा सीओ रविंद्र राम को यथाशीघ्र भीड़ को हटाने की निर्देश दिया है। एसडीओ ने कहा कि ख्याल रहे ऐसे कोई भी जगह पर भीड़-भाड़ जैसी समस्या उत्पन्न नहीं होनी चाहिए नहीं तो उनके खिलाफ कानूनी कार्रवाई की जाएगी। एसडीओ ने कहा कि सड़कों पर बेवजह घूम रहे लोगों के खिलाफ कानूनी कार्रवाई होगी। उनके खिलाफ आईपीसी के धारा 188,269,270,271 के तहत प्राथमिकी दर्ज कर उन्हें गिरफ्तार भी किया जायेगा।