खुशखबरी: एनआईओएस से डीएलएड करने वाले बन सकेंगे शिक्षक, NCTE ने दी मंजूरी

0

अब जल्द ही 71 हजार स्कूलों में 90763 प्रारंभिक शिक्षकों की बहाली प्रक्रिया फिर से शुरू हो जाएगी। एनसीटीई द्वारा एनआईओएस से 18 माह का डीएलएड मान्यता देने के बाद अब स्थगित नियोजन फिर शुरू करने का रास्ता साफ हो गया है।



पटना. लाखों शिक्षकों ने नेशनल इंस्टीट्यूट आफ ओपन स्कूलिंग (एनआईओएस) से डीएलएड कोर्स किया है, वह अब सभी समकक्ष रोजगार के लिए मान्य होगा। इस कोर्स को करने वाले शिक्षक अब देश में कहीं भी उसके अनुरूप शिक्षक पद हासिल करने के योग्य माने जाएंगे। नेशनल काउंसिल फॉर टीचर एजुकेशन (एनसीटीई ने इस बाबत पटना हाईकोर्ट द्वारा दिए गए फैसले को स्वीकार करते हुए इस कोर्स को मान्यता प्रदान कर दी है। ज्ञात हो कि इस बाबत की जानकारी देते हुए मानव संसाधन विकास मंत्री रमेश पोखरियाल ने बुधवार को ट्वीट कर यह जानकारी दी। उन्होंने इस बाबत एनसीटीई द्वारा बिहार के अतिरिक्त मुख्य सचिव को भेजे गए पत्र को भी नत्थी किया है जिसमें कोर्स को मान्यता देते हुए हाईकोर्ट के फैसले के अनुरूप भविष्य में कदम उठाने को कहा है।आपको बता दें कि पटना हाईकोर्ट ने नेशनल काउंसिल ऑफ टीचर एजुकेशन (एनसीटीई) के उस आदेश को खारिज कर दिया था जिसमें उसने प्राइमरी टीचरों की बहाली में 18 महीने के डीएलएड कोर्स को अमान्य करार दिया था। पटना हाईकोर्ट के इस फैसले से एनआईओएस डीएलएड डिग्रीधारियों को बड़ी राहत मिली थी। हाईकोर्ट ने डिप्लोमा इन एलिमेंटरी डिग्रीधारियों को शिक्षक बहाली प्रक्रिया में शामिल होने की अनुमति दे दी थी। यानी की अब जल्द ही 71 हजार स्कूलों में 90763 प्रारंभिक शिक्षकों की बहाली प्रक्रिया फिर से शुरू हो जाएगी। एनसीटीई द्वारा एनआईओएस से 18 माह का डीएलएड मान्यता देने के बाद अब स्थगित नियोजन फिर शुरू करने का रास्ता साफ हो गया है। प्राथमिक शिक्षा निदेशक डॉ. रणजीत कुमार सिंहने कहा कि एनसीटीई से मान्यता मिलने के बाद अब कोई कन्फ्यूजन ही नहीं रहा। बताते चलें कि एनसीटीई से शिक्षा विभाग को पत्र मिलने के बाद अब हाइकोर्ट के फैसले को मानते हुए एलपीए दायर नहीं किया जाएगा। एनआईओएस से 18 माह का डीएलएड के साथ टीईटी उत्तीर्ण अभ्यर्थियों को नियोजन में शामिल होने का मौका मिलेगा। विभाग का आकलन है कि एनआईओएस से 2.17 लाख उत्तीर्ण में डीएलएड के साथ टीईटी उत्तीर्ण लगभग 5 हजार अभ्यर्थी होंगे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here