नीलगायों के आतंक से किसान परेशान

0

इसुआपुर। प्रखण्ड के किसान जहां महंगाई की मार से त्रस्त है वही दूसरी ओर नीलगायों के आतंक से भयभीत व परेशान भी बड़ी ही मुश्किल से साहूकार या बैंक से पैसा उधार लेकर जी तोड़ महनत कर खेती करते हैं ।लेकिन जैसे ही फसल बड़ा होता है।नीलगायों का झुंड एक ही रात में सारे फसलों को खा जाते है ।किसान धर्मनाथ राय,साहेब शर्मा,बिश्वनाथ शर्मा,नागेंद्र महतो,मोगल जान अंसारी,सुरेश राय, नैमुल्लाह अंसारी,नीरज तिवारी, संजय श्रीवास्तव, दिलजान अंसारी,सूरज श्रीवास्तव, नेजाबुद्दीन अंसारी,इरसाद आलम आदि का कहना है कि उनलोगों ने कर्ज लेकर खेती किया था.लेकिन जैसे ही फसल बड़ा होने लगा दर्जनों नीलगायों की झुंड ने फसल को बर्बाद कर दिया ।इस कपकपाती सर्दी की रात में वे लोग रात रात भर जागकर डब्बा बजा बजा कर नीलगायों को भगाते है ।लेकिन मौका मिलते ही सैकड़ो नीलगाय छनभर में फसलों को चट कर जाते है ।इसके लिए न बीमा राशि मिलती है नाहीं कोई सरकारी सहायता । इस तरफ सरकार के किसी भी पदाधिकारी का ध्यान नहीं जाता है ।कई बार तो ये नीलगायों का झुंड इंसानों के मौत का कारण भी बन जाते हैं ।तेजी से दौड़ने के चक्कर में मोटरसाइकिल या कारो के ऊपर कूद जाते है.जिससे बड़ी घटनाएं घट जाती है ।इन लोगों का कहना है कि यह दहाड़ या सुखार से भी भयानक त्रासदी बन गया है ।अगर सरकार का ध्यान इस तरफ नही जाएगा तो हज्जारों किसानों को कर्ज के बोझ से आत्म हत्या तक करना पड़ेगा.

इनपुट:चंद्रप्रकाश राज/रजनीश रंजन बाबा

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here