बैमोसम बरसात व तेज हवा से किसानों के चेहरे पर मायूसी

0

सीवान। बुधवार की अहले सुबह से शुरू हुई बारिश और तेज हवाओं से गेंहू, सरसों मटर और आलू की फसल को भारी नुकसान पहुंचा है। बैमोसम बरसात व तेज हवा से किसानों के चेहरे पर मायूसी है। जो फसल एक दिन पूर्व तक खेतों में लहलहा रही थी।वह बारिश से खेतों में बिछ गई है। शुक्रवार को दिन में कुछ समय के लिए मौसम साफ रहा हल्की धूप भी निकली। लेकिन शाम होते ही फिर से मौसम ने करवट बदली और आसमान में काले बादल छाए रहे रुक-रुककर बूंदा बूंदी हो रही बारिश से शहर में सड़कों के किनारे किचड़ होने से लोगों को भारी परेशानी का सामना करना पड़ रहा है। इधर शनिवार को सुबह से ही आसमान में काले बादल छाए रहे। पूरे दिन बूंदाबांदी होती रही। तेज हवाओं के साथ हुई बारिश से ठंड का भी असर दिख रहा है। बुधवार की सुबह से शुरू हुई बारिश पूरे दिन पड़ती रही। कभी तेज बारिश तो कभी बूंदाबांदी के साथ चली तेज हवाएं फसल की दुश्मन साबित हुई। तेज हवा से किसानों के खेतों में खड़ी गेहूं की फसल गिर गई। जिससे किसान मायूस नजर आए। बारिश के कारण फिर से ठंड बढ़ गई है,ग्रामीण गर्म कपड़े पहने दिखाई दिए। आसमानी बिजली की तेज कडकडाती आवाज के साथ रूक-रूककर बारिश हो रही है,जिससे किसानों की मुसीबतें रूकने का नाम नहीं ले रही है। वहीं गेहूं की फसल तेज हवा के कारण गिरने से किसानों की चिंता बढती जा रही है। सब्जी उत्पादको का कहना है कि बारिश होने से सब्जी की फसल खराब होने से जहां किसानों को भारी नुकसान हो रहा है,वहीं बाजार में भाव बढने से ग्रहणियों की रसोई पर भी इसका प्रभाव पड रहा है.