क्रिमिनल और सिविल डिफेमेशन में अंतर:

0

क्रिमिनल डिफेमेशन: जब किसी के खिलाफ लिखित तौर पर,अख़बार के माध्यम से या फिर सोशल मीडिया के जरिये या फिर किसी और माध्यम से सार्वजनिक तौर पर एसी टिप्पणी की जाती है जिससे मान-सम्मान को ठेस पहुंचे तो एसी टिप्पणी करने वालों के खिलाफ पीड़ित पक्ष (Criminal defamation) आपराधिक मानहानि का शिकायत दर्ज करा सकता है अगर केस सवित हो जाये तो आरोपी को आईपीसी के धारा-499 व 500 के तहत दोषी करार दिया जाता है,और इस मामले में अधिकतम 2 साल कैद की सजा का प्रावधान है.

सिविल डिफेमेशन: इसमें पीड़ित पक्ष चाहे तो वह मान-सम्मान को ठेस पहुचने के मामले में हर्जाना की मांग कर सकता है और जो प्रतिष्ठा को हानि हुई है उसके लिए डैमेज क्लेम कर सकता है.डैमेज क्लेम के वक्त बताया जाता है की उसका क्या रेपुटेशन है और उसका कितना हनन हुआ हैं.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here