कोरोना वायरस से निपटने के लिए बनाया गया कंट्रोल रूम,हेल्पलाइन नंबर जारी

0

कोरोना वायरस से बचाव के लिए सामाजिक दूरी है कारगर

पूर्णियाँ। नोवेल कोरोना वायरस संक्रमण से बचने के जिला प्रशासन व स्वास्थ्य विभाग की ओर से कई फैसले लिए जा रहें है. संक्रमण की रोकथाम को लेकर राज्य सरकार द्वारा बिहार के सभी ज़िले को लॉक डाउन किया गया है. जिलाधिकारी राहुल कुमार द्वारा जिले में लॉक डाउन की स्थिति को देखते हुए नियंत्रण कक्ष का निर्माण किया गया है। साथ ही कोरोना वायरस संबंधित किसी भी तरह की सहायता के लिए जिले में हेल्पलाइन नंबर जारी किया गया है।इस दौरान कोई भी व्यक्ति इस नंबर पर कॉल कर जानकारी प्राप्त सकते है या अपनी समस्या से अवगत करा सकते हैं. सदर अस्पताल के नियंत्रण कक्ष 8544421722 या स्वास्थ्य विभाग के हेल्पलाइन नंबर 104 पर कॉल कर चिकित्सकीय सहायता ली जा सकती है। किसी सन्दिग्ध मरीज के बारे में जानकारी देने के लिए भी इस हेल्पलाइन नंबर का इस्तेमाल किया जा सकता है। इसके लिए कंट्रोल रूम में कर्मियों की शिफ्टवाइज ड्यूटी लगाई गई है. यह सुविधा 24 घँटे उपलब्ध रहेगी.

सामाजिक दूरियां बचाव में कारगर :

सिविल सर्जन डॉ मधुसूदन प्रसाद ने कहा कि कोरोना के संक्रमण से बचाव में सामाजिक दूरियां कारगर साबित होगी. इसलिए एक दूसरे के संपर्क में आने से बचें. जितना हो सके घर में ही रहने की कोशिश करें. कोराना वायरस से संक्रमित व्यक्ति के खांसने या छींकने के दौरान वायरस हवा में फैल जाते हैं. यदि संक्रमित व्यक्ति के नजदीक कोई व्यक्ति जाता है तो वह भी इस वायरस से संक्रमित हो सकता है. केंद्र सरकार ने इसे लेकर सोशल डिसटेंसिंग एडवाइजरी जारी किया है जिसके अनुसार ऐसी जगहों पर जहां अधिक लोग एक दूसरे के संपर्क में आ सकते हैं, वहां लोगों के आने-जाने पर प्रतिबंध लगा दिया है.

प्रखंडो में भी एमओआईसी व बीएचएम का नंबर जारी:

जिले के सभी प्रखंडो के प्रभारी चिकित्सा पदाधिकारियों, प्रखंड स्वास्थ्य प्रबन्धको का मोबाइल नंबर भी जारी किया गया है ताकि कहीं भी किसी प्रकार की सूचना हो तो सीधे उन नम्बरों पर कॉल कर दे सकते हैं. जिला स्वास्थ्य विभाग एवं प्रशासन इस विषम परिस्थिति में पूरी तरह मुस्तैद है.

संदिग्ध लोगों की स्क्रीनिंग की जा रही है.लेकिन इसमें आम लोगों को भी सतर्क रहने की जरूरत है. आम लोगों को बिना जरूरत घर से बाहर नहीं निकलने की अपील जिला प्रशासन द्वारा की गई है. साथ ही बाहर से घर लौटने पर अच्छी तरह हाथों की सफाई करने की भी सलाह दी है.

इनपुट:सीनियर जर्नलिस्ट चंद्रप्रकाश राज