बिहार की बेटियों ने महाराष्ट्र की जूनियर महिला टीम को 2-0 से हराया

0
मैरवा से सुनीता कुमारी/दीनानाथ चौधरी की रिपोर्ट
मैरवा से सुनीता कुमारी/दीनानाथ चौधरी की रिपोर्ट

मैरवा की बेटी ममता की कप्तानी कमाल की..

सीवान: मैरवा ऑल इंडिया फुटबॉल फेडरेशन द्वारा गोवा में आयोजित राष्ट्रीय जूनियर महिला फुटबाल चैंपियनशिप के लिए पहूंची बिहार की 20 सदस्यीय टीम की कमान रानी लक्ष्मीबाई स्पोर्ट्स एकेडमी मैरवा की बेटी ममता को सौपी गई है। इसकी जानकारी रानी लक्ष्मीबाई स्पोर्ट्स एकेडमी के संयोजक सह प्रशिक्षक संजय पाठक ने दी। संजय पाठक ने बताया कि मैरवा प्रखंड के सिसवां खुर्द निवासी पिता चंद्रिका सिंह एवं माता ललिता देवी की सबसे छोटी संतान ममता बचपन से ही फुटबॉल खेल में काफी मेधावी है। ममता अब तक दर्जनों राज्यस्तरीय एवं राष्ट्रीय प्रतियोगिता में भाग ले चुकी है तथा फुटबॉल में बिहार को पदक दिलाने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई है। ममता बिहार की ओर से बतौर स्टापर खेलती है। बताते चलें कि सिसवां गांव की दो बेटियाँ एक अमृता कुमारी जो भारतीय टीम की कप्तानी कर चुकी है जबकि ममता बिहार की कप्तानी कर रही है और दोनों ही स्टापर खेलती है। ममता के प्रशिक्षक संजय पाठक ने बताया कि कल 20 अगस्त को जब गोवा में ममता को टीम की कमान सौंपी गई तब मैच काफी चुनौतीपूर्ण था और सामने महाराष्ट्र की काफी ससक्त टीम थी।लेकिन मैदान के अंदर ममता के कुशल रणनीति के कारण बिहार की बेटियों ने कडे संघर्ष में 2-1 से जीत दर्ज की। बिहार का अगला मैच अब 24 अगस्त को है। संजय पाठक ने बताया कि बिहार का फुटबॉल खेल बिहार फुटबॉल संघ के महासचिव जनाब इम्तयाज हुसैन के कुशल नेतृत्व में विकास की ओर काफी अग्रसर है और कई बार बिहार की बेटियां सब जूनियर एवं जूनियर ग्रुप में बिहार के लिए पदक हासिल कर चुकी है। ममता के कप्तान बनने पर वरीय अधिवक्ता इष्टदेव तिवारी, काशीनाथ मिश्रा, रमेश कुमार सिंह, सुनील कुमार दूबे, फुलेना यादव, मुनिब अंसारी, विकास दिक्षीत सहित कई लोगों ने बधाई देते हुए अगले मैच के लिए शुभकामनाएं दी है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here