भगवान ने धरती के उद्धार करने के लिए रुकमणी मैया से रचाया था विवाह

0

सिवान: महाराजगंज प्रखंड के पटेढ़ी योगी ब्रह्म स्थान के प्रांगण में पिछले आठ दिनों से चल रहे हैं। विष्णु महायज्ञ में श्रद्धालुओं को खासा उत्साह देखने को मिल रहा है। विष्णु महायज्ञ में प्रवचन के दौरान शनिवार की संध्या काशी बनारस से पहुंचे अचार्य दुर्गा प्रकाश जी महाराज ने कहा कि। भगवान ने धरती का उद्धार करने के लिए रुकमणी मैया से विवाह किया। भगवान जब मथुरा कंस के द्वारा दी हुई न्योता में गये तो सबसे पहले उनका सम्मान मदमस्त मंदिरा के साथ दो विशाल हाथों से किया गया। कंस के द्वारा दिए हुए न्योते में पहुंचे भगवान श्री कृष्ण और बलराम ने दोनों हाथियों को बैकुंठ पहुंचा दिया। फिर श्री कृष्ण और भाई बलिराम आगे बढ़े और कंस के दरबार मे गए यहां जाने पर कंस के सिखाएं गए पहलवान ने भगवान् को मलयुद्ध के लिए चुनौती दिया। जिसे भगवान श्री कृष्ण ने स्वीकार किया।

फिर उन पहलवानों को भी मार दिया। अब बारी थी कंस को मार कर मथुरा की जनता को न्याय दिलाने की, कंस ने भगवान को अपने गले लगाकर मारना चाहा फिर क्या भगवान ने कंस को भी मार धरती को पाप से मुक्त किया। श्रवण के दौरान उपस्थित देवरिया पंचायत के मुखिया श्री अजित प्रसाद आजादी बाबू, देवरिया पैक्स अध्यक्ष अनिल सिंह , रामसंकर शाही , बबलू शाही, भीखम महतो, के0बी0 कुशवाहा, बेदप्रकास, बिजय यादव, भिखारी बाबा, हरेंद्र पटेल, लालबाबू जी तथा समस्त क्षेत्र वाशी मौजूद थे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here