शौचालय सहित केंद्र में साफ-सफाई की व्यवस्था ना होने से नाराज प्रवासी मजदूरों ने क्वारेंटिन केंद्र पर प्रदर्शन किया

0

बताया कि क्वारेंटिन केंद्र पर कुव्यवस्था के खिलाफ इसकी शिकायत पंचायत के मुखिया से कई बार दी जा चुकी है लेकिन उनके द्वारा भी व्यवस्था के नाम पर हाथ खड़ा कर लिया गया है,प्रशासन की ओर से उपलब्ध कराई जाने वाली भोजन में गुणवत्ता ना होने के कारण पिछले 2 दिनों से मजदूर उपवास रहकर प्रशासन की कार्यशैली पर सवाल खड़े कर रहे है


सीवान.दरौंदा प्रखंड के राजकीय मध्य विद्यालय रामगढ़ा में बनाए गए क्वारेंटिन केंद्र पर कुव्यवस्था के खिलाफ प्रवासी मजदूरों ने प्रशासन के खिलाफ जोरदार हंगामा किया। सुबह में नाश्ता की व्यवस्था ना होने,मच्छरों से बचाव की व्यवस्था ना होने,शौचालय सहित केंद्र में साफ-सफाई की व्यवस्था ना होने से नाराज प्रवासी मजदूरों ने शुक्रवार की अहले सुबह क्वारेंटिन केंद्र के बाहर इकट्ठा होकर प्रशासन के खिलाफ नारेबाजी किया,मजदूरों का कहना है कि वह पिछले 2 दिनों से अपने पंचायत के राजकीय मध्य विद्यालय रामगढ़ा क्वारेंटिन केंद्र पर है, इसके बावजूद भी रात के अंधेरों में किसी तरह से समय काट रहे है ना तो यहां पर लाइट की व्यवस्था की गई है और ना ही जनरेटर की। भीषण गर्मी में उन्हें यहां रहना परेशानियों का सबब बना हुआ है। प्रवासी मजदूरों ने सफाई के साथ ही पीने के लिए साफ पानी की व्यवस्था करने की मांग की। उन्होंने कहा कि केंद्र में साफ-सफाई की व्यवस्था नहीं है, उनके खाने के लिए साफ सुथरा भोजन उपलब्ध नहीं कराई जाती है,बताया कि पिछले 2 दिनों से उनके लिए लाए गए भोजन वैसे ही पड़ा है,क्वारेंटिन केंद्र पर तकरीबन 70 मजदूरों के बीच ना तो सही ढंग से शौचालय की उत्तम व्यवस्था की गई है,और ना ही उनके खाने के लिए अच्छा भोजन ही उपलब्ध है,उन्होंने चावल में गेहूं तथा घुन मिलावट का आरोप लगाया है,बताया कि क्वारेंटिन केंद्र पर कुव्यवस्था के खिलाफ इसकी शिकायत पंचायत के मुखिया से कई बार दी जा चुकी है लेकिन उनके द्वारा भी व्यवस्था के नाम पर हाथ खड़ा कर लिया गया है,प्रशासन की ओर से उपलब्ध कराई जाने वाली भोजन में गुणवत्ता ना होने के कारण पिछले 2 दिनों से मजदूर उपवास रहकर प्रशासन की कार्यशैली पर सवाल खड़े कर रहे है, वहीं कुछ प्रवासी मजदूरों ने बताया कि विद्यालय के अधिकांश कमरों में ताला बंद है जिसकी वजह से प्रवासी मजदूर बरांडे में ही सोने को मजबूर है.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here