गडखा प्रखंड के बीआरसी पर प्रखंड,जिला व प्रदेश के सभी शिक्षको ने हडताल पर डटे रहने का दुहराया संकल्प

0

छपरा। बिहार राज्य शिक्षक संघर्ष समन्वय समिति के राज्य कार्यकारणी की शुक्रवार को हुए बैठक मे बीसवे दिन गडखा के बी आर सी कदना के बैठक मे चर्चा हुई।इस बैठक मे जिला व प्रदेश कमिटि से जुटे शिक्षको ने बी आर सी गडखा के हरताली मंच पर उपस्थित शिक्षको से आगे की रणनीति पर चर्चा किया और सरकार की शिक्षको के प्रति उपेक्षित रवैये के प्रति घोर नाराजगी व्यक्त की।प्रदेश कार्यसमिति सदस्य राकेश कुमार सिह ने कहा की हम सभी चारलाख नियोजित शिक्षको के न्योचित माॅगो पर हठधर्मी बिहार सरकार को झुकना ही पडेगा।जिला कार्यकारणी सदस्य हरि बाबा ने कहा कि सरकार कभी उन नियोजित शिक्षको के दरवाजे पर पहुंच कर उनके माली हालात को समझे गिनकी सेवा काल मे आसमयिक निधन हो जाता है।

अगर वह परिवार का अकेला कमाउ सदस्य रहा हो तो उसके अंत्योष्ठी व श्राद्ध कर्म के लिये चंदा एकत्र करना परता है और सरकार कहती है हम वेतनमान नही दे सकते नानत है ऐसे सरकार पर जो अपने कर्मचारियों को वाजिब मजदूरी नही देती।जिला कार्यसमिति के ही कमलेश्वर प्रसाद यादव ने कहा कि सरकार यदि शिक्षको के साॅथ न्याय नही करती है तो न सीर्फ उनका बल्कि उनके आनेवाले नव पीढियो की भविष्य भी अंधकार मे चली जाएगी।आज चाह कर भी सरकार के सेवा मे समर्पित शिक्षक अपने बाल बच्चो को न अच्छे स्कूलो मे नामांकन करा सकते ना ही अपने बेटियों की शादी अच्छे घर मे कर सकते क्योकि मेहमाने के स्वागत योग्य भी उनके पास पैशे नही है।वही जिला कार्यकारणी के रामानुज सिंह ने कहा कि सरकार हमको ललीपप दिखाती है हम कोई भीख थोरे माॅग रहे हमे तमाम सुविधा चाहिएम।जिला अध्यक्ष मंडल सदस्य सुभाष कुमार सिह ने कहा कि सरकार यदि शिक्षको के माॅग पर जल्द ध्यान नही दिया तो इसका परिणाम बहुत बुरा होगा जिसका अंदाजा सरकार को चुनाव के समय लेगा। प्रखंड समन्वय समिति गडा के अनील कुमार सिंह ह ने मंच से ऐलान किया कि सरकार यदि होली के पूर्व शिक्षकों के सभी सात सुत्री माॅग होली की नीरसता नही खत्म की तो 2020 उनके लिए भी बुरा रहेगा। वे अपने घर दीपावली नही मनायेंगे।प्रखंड कार्य समिति के विजय राम ने कहा हमारे होली के महा पर्व मे सरकार रंग भर दे हम लोग दीपावली के समय सरकार की खुशी नही छिनेंगे।

शिक्षको ने धरना स्थल पर ही बिना रंग अबीर के सरकार के खिलाफ होली गाये”जबले ना देब वेतनमनवा हो हड़ताल खत्म नाही होई हड़ताल खत्म नाही हो हरताल खत्म नाही होई हो ड् हो

तोहके चुनाव के सम शिक्षक आक्रोश के सामना होई आक्रोश के सामना होई आक्रोश के सामना होई जबले ना देब वेतन मानवा हो हरताल खत्म नही होई हो।

सुन नीतिश हो सुन हो मोदी

झुठही बनेल सुशाशन बाबू

कानूनी लाठी चलवात बार

बन के तुहुकुशासन बाबू।

बोलो सारा रा रा रा रा

इस तरह के अनेक होली गीतो को गाकर हरताली शिक्षकोने अपना आक्रोश जाहिर किया और सरकार को गीत के माध्यम से खुब कोशा साॅथ ही गडखा के मंच से पूरे बिहारके हरताली शिक्षको को संदेश दिया कि गडखा के सभी शिक्षक बिहार राज्य शिक्षक संघर्ष समन्वय समिति के प्रदेश कार्यसमिति व जिला के निर्णय के आलोक मे तबतक हरताल पर जमे रहेंगे जबतक सरकार से वार्ता व हरताल खत्म करने का निर्देश प्राप्त नही होगा।धरना पर बैठे शिक्षको ने बिहार राज्य शिक्षक संघर्ष समन्वय समिति के प्रदेश कार्यसमिति सदस्य राकेश कुमार सिह, व सारण जिला अध्यक्ष मंडल सदस्य रामानुज सिह,कमलेश्वर प्रसाद यादव, सुभाष कुमार सिह आदि सभी को होली गीत के तर्ज पर सरकार के उपर बनी गीतो को सुनाकर आश्वस्त किया किया हम सभी एक है और अपने माॅगो पर अरे रहने का संकल्प लेते है।

बीसवे दिन गडखा प्रखंड के बी आर सी कदना मे उपस्थित शिक्षको व संघीय नेताओ मे सामिल थे प्राथमिक शिक्षक संघ के पुनकाल सिंह,रामानुज सिह,कमलेश्वर यादव,हरि बाबा,अनील सिह,धर्मेन्द्र सिह,विजय राम,सुभाष राय,मनोहर कुमार, राजू सिह,मुन्ना यादव शेरे खुदा चिस्ती,मैनुद्दीन अंसारी तनवीर अख्तर,फारूक आलम,राजेश तिवारी, अशोक सिह,तारकेश्वर साह, गौतम सिह,माधुरी कुमारी, कविता सिह,सीमा देवी,संगीता कुमारी,अंजुम सुलताना विजय कुमार,संजीव सुमन,अस्मिला कुमारी,ललन सिह,मणीन्द्र कुमार, अजय सिह,विनोद कुमार सिन्हा, सरोज कुमारी आदि रहे.

इनपुट:चंद्रप्रकाश राज/राजेश तिवारी