​अस्ताचलगामी सूर्य को आज दिया जायेगा अर्ध्य : छठ महापर्व की भक्ति में सराबोर हुए भक्त 

0

रिपोर्ट चंद्र प्रकाश राज
छपरा : आस्था, समर्पण, श्रद्धा और भक्ति ऐसे शब्द छठ जैसे महान पर्व में अपनी सार्थकता सिद्ध करते नजर आ रहे हैं. शहर हो या गांव हर व्यक्ति लोक आस्था के इस पर्व में डुबकी लगाकर स्वयं को पवित्र करने की होड़ में लगा है. गुरुवार को छपरा के बाजारों में बिखरी महापर्व की रौनक ने एक बार फिर सिद्ध कर दिया कि छठ ही एकमात्र ऐसा पर्व है जहां जाति-धर्म के बंधन को तोड़ हर कोई तत्परता के साथ अपनी भूमिका निभाने के लिए आतुर दिखता है। छपरा के साहेबगंज, मौना चौक, सरकारी बाजार, गुदरी बाजार, साढ़ा, भगवान बाजार, थाना चौक, गांधी चौक या यूं कहें कि शहर के प्रायः सभी प्रमुख बाजारों में नारियल, केला, अरुई, गागल, ईख, मूली, सेव, संतरा, सिंघाड़ा, आदि सभी प्रकार के फल तथा कलसुप व दउरा से सजी दुकानों पर खरीदारों की भीड़ ने सूर्योपासना के इस पर्व का उत्साह दोगुना कर दिया. गरीब-अमीर, ऊंच-नीच, जाति-धर्म का भेद मिटाकर हर कोई उमंग के साथ खरीदारी में जुटा था.

छठव्रतियों ने किया खरना :-
छठ महापर्व में खरना का विशेष महत्व होता है. बुधवार की संध्या व्रतियों ने मिट्टी के चूल्हे पर गुड़ मिश्रित रासियाव व रोटी बनायी तथा धूप-दीप के साथ पूजन किया और प्रसाद ग्रहण किया. महिलाओं ने प्रसाद बनाने के दौरान पारंपरिक गीत भी गाये और इस महापर्व के निर्जला व्रत को धारण करने और अगले 36 घंटे व्रत को करने की शक्ति व सामर्थ्य बनाये रखने की कामना की आज शहर के विभिन्न घाटों पर अस्ताचलगामी सूर्य को अर्ध्य दिया जायेगा. पुरे शहर में छठ महापर्व को ले चहल-पहल हैं. जिधर जाइये छठ माई के पारंपरिक गीत गूंज रहे हैं. व्रती व् भक्त नए-नए कपड़े पहनकर भगवान भास्कर को आज तीसरे दिन अर्ध्य अर्पित करने की तैयारी कर रहे है. उत्तर बिहार के प्रसिद्ध सूर्य मंदिर नरांव में भी पूरा मंदिर परिषर सज-धज कर तैयार है. सारण प्रशासन की तरफ से महिला पुलिस बल का जथा सुरक्षा संभालने मंदिर परिषर आ पहुंचा है। अब अर्ध्य अर्पित करने की तैयारी चल रही है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here